इंटरनेट की ऐसी काली दुनिया जहाँ हमे जाना मना है

इंटरनेट की ऐसी काली दुनिया जहाँ हमे जाना मना है

                                                                 image copyright 
जी हाँ दोस्तों आज एक बार फिर हम आपके बिच में उपस्थित हुए है एक ऐसा तथ्य लेकर जिससे आपको सुनकर बड़ी हैरानी होगी लेकिन ये सब सच है क़ि इंटरनेट क़ि एक ऐसी भी दुनिया है जहाँ आम लोगो का जाना मना है आज के समय में ये इंटरनेट हमारे जिंदगी का हिस्सा बन चूका है मानो हम इसके बिना ना रह सकते है और ना ही जी सकते है हम सभी लोग इंटरनेट के आदि यानि पुरे नसेड़ी बन चुके है इंटरनेट जैसा हमें दिखाई देता है वैसा बिलकुल भी नहीं है इंटरनेट क़ि एक अलग ही दुनिया है एक काली दुनिया है जिसके बारे में बहुत ही कम ही लोग जानते है।

जी हां दोस्तों इंटरनेट पर जो कुछ भी हम लोग सर्च करते है और जो कुछ भी हम देखते है जो कुछ भी हमे दिखाया जाता है  वो सिर्फ इंटरनेट का 4% भाग है  अब आप सोच रहे होंगे क़ि ये बाकी 96% भाग है वो किस काम आता है और ये 96% भाग इंटरनेट  क़ि दुनिया में क्या है और इसके बारे मे हम लोग भी नहीं जाते है ।

 ऐसा क्या है इस 96% भाग में जो हमें इंटरनेट क़ि दुनिया में नहीं दिखाया जाता है तो आइये दोस्तों हम जानते है इसके बारे में

इंटरनेट एक ऐसा जाल है जो और एक ऐसा बड़ा नेटवर्क है जिसके बारे में हम सोच भी नहीं सकते है और ना ही इसकी कल्पना कर सकते है इसलिए इंटरनेट को तीन भागो में बता गया है।
1. सरफेस  वेब (SURFACE WEB)
2. डीप वेब (DEEP WEB)
3. डार्क वेब (DARK WEB )

1. सरफेस  वेब (SURFACE WEB) - इंटरनेट पे जो कुछ भी हमे दिखाया जाता है और जो भी हम देखते है  ये सारा का सारा सरफेस वेब कहलाता है जैसे हम जब भी गूगल में कुछ सर्च करते है और कोई वेब साइट खोलते है और उसे हमें जो कुछ भी दिखाया जाता है वो सरफेस वेब में आता है किसी  सर्च इंजन में जो फाइल या वेब पेज है  वो सब इंडेक्स होता है ये सारा सरफेस वेब कहलाता है इंटरनेट क़ि दुनिया में जो कुछ पब्लिक के लिए जो  भी डेटा उपलब्ध है वो सारा सरफेस वेब है ।

2. डीप वेब (DEEP WEB) - इंटरनेट क़ि दुनिया में जो कुछ भी आपसे छुपाया जाता है और आपको जो कुछ भी नहीं दिखाया जाता और जो भी गूगल सर्च इंजन में इंडेक्स नहीं होता है और ये सारा का सारा भाग डीप वेब कहलाता है डीप वेब को देखने के लिए या इसका एक्सेस पाने के लिए आपके पास इसकी एक उचित आई डी या इसके लॉगिन आई डी और पासवर्ड होने जरुरी है या इसके उचित यूआरएल या एक उचित पता होना भी आवश्यक है और इसके बाद ही आप आप किसी भी फाइल को एक्सेस कर सकते है ये फाइल  किसी भी प्रकार के सर्च इंजन में  इंडेक्स नहीं होती है मतलब ये क़ि आप किसी भी सर्च इंजन में इसको सर्च करेंगे तो ये इंडेक्स नहीं होगी।

3. डार्क वेब (DARK WEB ) -इसका मतलब है काला वेब जहाँ पर सिर्फ गैर क़ानूनी काम ही होते है ये इंटरनेट का ऐसा भाग है जो पूरी तरह से गैर क़ानूनी होता होता है इसलिए इसे इंटरनेट की काली दुनिया भी कहलाती है इसमें जो कुछ भी आपको दिखाया जाता है और जो कुछ भी कराया जाता है और जो कुछ भी आपको फाइल और जानकारी दी जाती है वो सारा का सारा का सारा गैर क़ानूनी होता है और हैकर इस डार्क वेब का उपयोग करते है।
दोस्तों आप कभी भी इस डार्क वेब का उपयोग ना करें ये पूरी तरह से गैर क़ानूनी है ।

Comments

Popular posts from this blog

आखिर आपके मोबाइल में क्या खराबी ऐसे पता करें

पुराने से भी पुराने मिटाये डाटा को रिकवर करें

क्या एक खराब मेमोरी कार्ड को ठीक किया जा सकता है